ईसाई लेखक के बारे में, विटनस ली

Learn about Witness Lee, his ministry, writings and beliefs.

विटनस ली के बारे में विटनस ली, वाचमॅन नी के सबसे करीब और सबसे विश्वासनीय सहकर्मी थे। सन 1925 में, उन्नीस साल के उमर में, विटनस ली ने गत्यात्मक आत्मिक पुनरुत्पादन अनुभव किया और खुदको जीवित प्रभू के सेवा के लिए अर्पण किया। उस समय से उन्होने पवित्र बीईबल को बहुत गहनता से पड़ना शुरू किया। उनके ईसाई जीवन के पहले सात वर्ष में, प्लिमत ब्रद्रन का अधिक प्रभाव था। फिर उनकी मुलाकात वाचमॅन नी से हुइ और 17 वर्ष सन 1949 तक उनहोने वाचमॅन नी के साथ चीन देश में उनके सहकर्मी बनकर गुजारा। दूसरे विश्व युध्द के समय, जब चीन देश पर झपान ने कबजा किया, विटनस ली, को जापानीयों ने हिरासत में कैद कर लिया और उन्होने प्रभु येशु के विश्वासनीय सेवा के कारण बहुत कष्ट भुगता। परमेश्वर के इन दो सेवकों के काम ने चीन देश के मसीही लोगों के मध्य बहुत ही बढां पुनर्जागरण उतपन किया, जिसका प्रभाव पूरे चीन देश पर इस तरह से पढां की परमेश्वर का सुसमाचार पूरे देश में फैलने लगा और गिनती में सौ से भी अधिक कलिस्या (चर्च) निर्माण हुए। सन 1949 में, वाचमॅन नी ने उनके सारे सहकर्मीयों को इकट्ठा किया जो चीन में उनके संग प्रभू की सेवा करते थे और विटनस ली को चीन देश के मुख्य भूमि से बाहर, एकांत भूमि ताइवान मे सेवा के लिए नियुक्त कीया। अगले कुछ वषों तक परमेश्वर के आशीर्वाद के कारण ताइवान और दक्षिण-पूर्व एशिया मे सौ से भी अधिक कलिस्या (चर्च) निर्माण हुए। सन 1960 के शुरुवात मे परमेश्वर विटनस ली को अमेरीका लेकर आए जहाँ पर उन्होने प्रभू की सेवा की और 35 वर्ष से भी अधिक परमेश्वर के बच्चों के लाभ के लिए काम किया। उन्होने सन 1974 से 1997 नके गुजर जाने तक कैलिफोर्निया के अनॅहाईम शहर में निवास किया। अमेरीका में रहते समय उन्होने तीन सौ से भी अधिक पुस्तकें लिखी हैं।

The ministry of Witness Lee is especially helpful to seeking Christians who desire a deeper knowledge and experience of the unsearchable riches of Christ. By opening the divine revelation in the entire Scriptures, Brother Lee’s ministry reveals to us how to know Christ for the building up of the church, which is His Body, the fullness of the One who fills all in all. All the believers should participate in this ministry of building up the Body of Christ so that the Body can build itself up in love. Only the accomplishing of this building can fulfill the Lord’s purpose and satisfy His heart.

The Following is a brief description of the Major Beliefs of Watchman Nee and Witness Lee:

  • The Holy Bible is the complete divine revelation, infallible and God-breathed, verbally inspired by the Holy Spirit.
  • God is the only one Triune God—the Father, the Son and the Holy Spirit—equally co-existing and mutually coinhering from eternity to eternity. The Son of God, even God Himself, was incarnated to be a man by the name of Jesus, born of the Virgin Mary, that He might be our Redeemer and Savior.
  • Jesus, a genuine Man, lived on the earth for thirty- three and a half years to make God the Father known to men.
  • Jesus, the Christ anointed by God with His Holy Spirit, died on the cross for our sins and shed His blood for the accomplishing of our redemption.
  • Jesus Christ, after being buried for three days, was raised from the dead, and forty days later He ascended into heaven, where God made Him the Lord of all.
  • After His ascension Christ poured out the Spirit of God to baptize His chosen members into one Body. Today this Spirit moves on the earth to convict sinners, to regenerate God’s chosen people by imparting into them the divine life, to dwell in the believers of Christ for their growth in life, and to build up the Body of Christ for His full expression.
  • At the end of this age Christ will come back to take up His believers, to judge the world, to take possession of the earth, and to establish His eternal Kingdom.
  • The overcoming saints will reign with Christ in the millennium, and all the believers in Christ will participate in the divine blessings in the New Jerusalem in the new heaven and the new earth for eternity.
  • वाचमॅन नी और विटनस ली ने लिखि हमारी पुस्तकें देखीए

     

    किताबें